Saturday, June 22, 2019

उदारता (Generosity)

उदार कौन है ? ( Who is generous? )  उदार किसे कहेंगे ? ( Who will say liberal? ) उदारता के क्या लाभ हैं ?( What are the benefits of generosity? )   आदि प्रश्नों का सटीक विवेचन किया गया है इस अध्याय में | महात्मा, मनीषी, विचारक एवं धर्म शास्त्र क्या कहते हैं उदारता के सन्दर्भ में, आइये जानें  - 
  
आभारी हूँ मैं उनका जिन्होंने मेरी निंदा करके मुझे सावधान बनाया | - अज्ञात 

⇒ अपने साथ उपकार करने वालों के साथ जो साधुता बरतता है, उसकी तारीफ़ नहीं है | महात्मा तो वह है जो अपने साथ बुराई करनेवालों के साथ भी भलाई करे | - महात्मा गाँधी 

⇒ सुशील, धर्मात्मा और सब मित्र व प्राणियों पर दया करने वाले पात्र बनो | दुनिया की तमाम सम्पत्तियाँ ऐसे पात्र को ही अपना आश्रय बनाती हैं, जैसे पानी नीचे की ओर तथा धुआं आसमान की ओर स्वाभाविक रूप से गति करता है | - विष्णु पुराण 

⇒ दुष्ट अपनी दुष्टता, सर्प अपना विष, सिंह रक्तपान जिस प्रकार नहीं छोड़ता, उसी प्रकार उदार अपनी उदारता नहीं छोड़ता | - स्वामी महावीर 

⇒ उपकार की फसल न बो सको, तो एक पौधा तो तैयार करो | - राज ठाकुर 

⇒ मुर्ख छोटा-सा कार्य आरम्भ करते हैं और उसी में बेचैन हो जाते हैं | बुद्धिमान बड़े से बड़े कार्य आरम्भ करते हैं और निश्चिन्त बने रहते हैं | - माद्य

⇒ उदारता मनुष्य का श्रेष्ट गुण है | - चार्वाक 

⇒ आप दूसरों के दुखों में सहानुभूति रखेंगे तो कल जब आपको उसकी आवश्यकता होगी, तब वे ही लोग आपको अपना सहयोग दिल की गहराइयों से देंगे | - अज्ञात 

⇒ महान उपलब्धियों के लिए हमे कर्म नहीं करना चाहिए, अपितु स्वप्न भी देखना चाहिए, योजना ही नहीं बनानी चाहिए, अपितु विश्वास भी करना चाहिए | - अनातोले फ़्रांस 

⇒ प्राकृतिक नियम के अनुसार सुख उदारता का और दुःख त्याग का पाठ पढ़ाने आता है | इतना ही नहीं, उदारता त्याग को पुष्ट करती है और त्याग को सुरक्षित रखता है | उदारता और त्याग को अपना लेने पर सुखियों और दुखियों में वास्तविक एकता हो जाती है, जिसके होते ही समस्त संघर्ष अपने आप मिट जाते हैं | तब कोई बैर भाव शेष नहीं रहता | - स्वामी शरणानन्द 

⇒ महान व्यक्ति न किसी का अपमान करता है और न उसको सहता है  | - होम 

⇒ उदार मन वाले विभिन्न धर्मों के सत्य देखते हैं, संकीर्ण मन वाले केवल अन्तर देखते हैं | - एक चीनी कहावत 

⇒ 'यह मेरा है यह दूसरे का' ऐसा संकीर्ण हृदय वाले समझते हैं | उदार हृदय वाले तो सारी दुनिया को कुटुम्ब सा समझते हैं | - हितोपदेश

⇒ उदारता उच्च वंश से आती है, दया और कृतज्ञता उसके सहायक हैं | - कार्नेल 

⇒ एक वीर पुरुष किसी से द्वेष नहीं करता, युद्ध की क्षति शान्ति में भूल जाता है और अपने भयंकर शत्रु का भी मित्र की भांति आलिंगन करता है | - काउपर 

उदारता (Generosity)
उदारता (Generosity)


Share This
Previous Post
Next Post
Gaurav Hindustani

My name is Gaurav Hindustani. I am web designer by profession, but I am author by heart so Hindustani Kranti is a platform for all Authors and poets who write GOLDEN words and have special stories and poetries. You can send any time your words to me at gauravhindustani115@gmail.com.

0 comments: