Monday, October 1, 2018

( शिवानी )

बड़ा मधुर है मिलन तुम्हारा ,
बड़ी मधुर है वाणी,
सरल-सहज परिभाषा तुम्हारी,
चंचल हो तुम शिवानी !

चन्द्रमा चेहरा तुम्हारा,
कह रहा सच हिन्दुस्तानी ,
तुम कमल खिलता हुआ हो ,
मुस्कान है सुबह सुहानी !

आएगा लेखक तुम्हारा,
जिसकी तुम सुन्दर कहानी ,
पावन पात्र वो बन जायेगा ,
तुम शीतल गंगा का पानी !

वो बनेगा कृष्ण तुम्हारा ,
तुम हो जिसकी राधा रानी ,
सरल-सहज परिभाषा तुम्हारी,
चंचल हो तुम शिवानी !

.
.
.
.
गौरव हिन्दुस्तानी


Shivani


Share This
Previous Post
Next Post
Gaurav Hindustani

My name is Gaurav Hindustani. I am web designer by profession, but I am author by heart so Hindustani Kranti is a platform for all Authors and poets who write GOLDEN words and have special stories and poetries. You can send any time your words to me at gauravhindustani115@gmail.com.

0 comments: